Bramayugam Movie Review: ब्रमायुगम मूवी समीक्षा (रिव्यू) हिंदी में, ऐसी फिल्म बनती है 100 सालों में एक बार

Bramayugam Movie Review: तुम भूत और अन्य असत्यों पर विश्वास करते हो क्या? कभी इसके बारे में सोचा है नहीं? अगर हाँ, तो यह पता होगा कि आपको सर जैकपॉट लकी हो चुकी है क्योंकि उन्होंने मेरे अनुसार भारत में अब तक की सबसे डरावनी फ़िल्म, भूत कलम, का निर्माण किया है, जिसकी बारे में काफ़ी कम लोग जानते हैं। वे वापस आ गए हैं।

Bramayugam Movie Review in Hindi

यह फिल्म ब्रमायुगम एक ऐसी सुपरनेचरल फिल्म है जिसे थिएटर में कम देखा जाता है लेकिन ज्यादा लोगों के दिमाग में चलती है। इसका नाम है Bramayugam और मेरा काम है।

तुम्हें चेतावनी देनी है कि कमजोर दिल वालों को इस फिल्म से दूर रहना चाहिए। इसे समझने से पहले, तुम्हें याक्षी के बारे में समझना होगा। डरने की कोई बात नहीं, ये फोन से बाहर नहीं आएगा। याक्षी कौन होती है? वह एक महिला आत्मा होती है जो बहुत सुंदर होती है। एक बार अगर तुम उसे देख लो, तो वह तुमसे दूर नहीं रह पाओगी और जो उसके क़रीब जाएगा, वह जीवित नहीं रह पाएगा।

तुम्हारी कहानी एक ऐसे जंगल की है जहाँ बहुत सारी खूबसूरत जानवर होती हैं जो कई लोगों की शिकार हो चुकी हैं। शायद तुम अब वहाँ घूम रहे हो और उन्हें इधर-उधर भूत बन गए हो। अब यह जानना महत्वपूर्ण है कि इससे बचना कैसे होगा। तुम्हारा हीरो इसका रास्ता ढूंढ लिया है।

Bramayugam Movie रिव्यू

ब्रमायुगम फिल्म कहानी

जब कोई अतिथि पुरानी हवेली में जाता है, तब एक बूढ़ा राजा वहां रहता है। राजा को बहुत खुशी होती है जब वह सालों के बाद अपने महल में किसी अतिथि को देखता है, लेकिन जब रात में उसे अपने कमरे में उसी आइने के विपरीत इसे देखता है, तब वह अतिथि बिल्कुल पागल हो जाता है।

क्या आप इस परिवार मालिकाना हवेली में जाना चाहेंगे? मतलब बस एक खास बात है। जाने के लिए केवल राजा की अनुमति चाहिए। परमिशन तो वही दे सकता है।

क्योंकि हवेली के एक कमरे में एक लाश है, जिसके नीचे सफेद कफ़न है। इस लाश का चेहरा अपने राजा साहब के है। लेकिन फिर भी उसके बाहर, राजा की कुर्सी पर बैठे हुए व्यक्ति ऐसे लोगों को रोक रहा है, जो हवेली से बाहर जा रहे हैं। क्या यह धोखा, डर या शायद याक्षी की जादू है? आपका स्वागत है Bramayugam में। यह फ़िल्म नहीं, पागलपन है, सर। मैं उम्मीद करता हूँ, आपने अन्य सिनेमाओं को देखा होगा।

तुमने खुद देखा है, लेकिन इस बार तुम्हें दिमाग के लिए सीट बुक करनी पड़ेगी। तुम्हें भानगढ़ के बारे में पढ़ाया गया है। सोचो, क्या ऐसी एक दुनिया हो सकती है जो आंखों से देखी नहीं जा सकती हो।

ब्रमायुगम का अहवाल

लेकिन गलती से कोई लड़का जाके उस दुनिया को अपने कैमरा में कैद कर ले और बड़ी स्क्रीन पर रिलीज कर दे बस उसी का नाम है Bramayugam अनाउंसमेंट ही इस तरीके के फर्स्ट पोस्टर से किया गया हो वो थिएटर में आपके साथ दो घंटे क्या-क्या कर सकती है आप खुद समझदार हो Bramayugam मिलाके दादी नानी वाली डरावनी कहानी को एक शक्ल देने का काम किया गया है।

जब फिल्म शुरू होती है और आपको पता चलता है कि 2024 में आपको एक काले-सफेद सिनेमा देखने का मौका मिलेगा, तो आपका दिमाग थोड़ा अस्थिर हो जाता है।

और हमारी आदत नहीं होती कि किसी सुंदर अभिनेत्री को फिल्म के पहले सीन में आकर विरोधी अभिनेता के बड़े दांत निकाल कर काट दें। यहां एक कहावत है कि आपकी उम्मीद के विपरीत होने के बाद सब कुछ अच्छा लगता है।

यह फिल्म बेहद अनप्रत्याशित है। कोई भी सीन इसमें ऐसा नहीं है जैसा कि आपने पहले किसी दूसरी फिल्म में देखा हो। यह भारतीय सिनेमा की एक अजीब सी फिल्म है, जिसका डर हम सोच सकते हैं, वहीं इसे हमने शानदार कैमरा के जरिए बनाया है। इस फिल्म में कमरे की दीवार इतनी नीचे है कि हम उसमें फंस सकते हैं।

अन्य थ्रिलर मूवीज़ में लोग खून के लाल रंग को दिखाकर दराने की कोशिश करते हैं, लेकिन ब्लैक एंड वाइट सिनेमा कैसे डरा सकती है? वो आंखों से नहीं, दिमाग से है। यह फिल्म तीन लोगों के बीच में चलती है, जबकि हम पूरी दो घंटे तक एक सीन से दूसरे सीन तक दर्शकों को बांधे रखते हैं।

ऐसा कैसे हो सकता है? जवाब यह है कि इसमें ताक़तवर कहानी है और उससे भी बड़ी ताक़तवर कहानी कहानी कह रही है। इसमें तीन कलाकार हैं, जो एक कल्पनिक कहानी को अपनी अदाकारी से वास्तविकता में बदल सकते हैं। जब फिल्म में काम करने वाला सबसे बड़ा अभिनेता असली जीवन में उस कहानी के विलेन का पात्र निभा देता है, तब लगता है कि असली चैम्पियन हमेशा जीत जाता है।

विशेष स्पेशल क्रेडिट तो मामूति सर को मिलता ही है, जो उस तरह के किरदार को निभा सकते हैं जो कि वास्तव में बेहद जबरदस्त होते हैं, पर उनके साथ रिश्ता काफी जटिल होता है। जब चाहें तो वे आपको प्रभावित कर सकते हैं, कभी डर भी लगा सकते हैं और कभी नफरत भी पा सकते हैं। एक सीन है फिल्म में, जब इनकी वो दिखावटी तस्वीर आधिकारिक निकलती है, फिर मेरी सांसें कुछ समय के लिए थम सी जाती हैं।

यह भी चमत्कार है कि अर्जुन और सिद्धार्थ (फिल्म के दो अन्य अभिनेता) भी मामूति सर के साथ खड़े हैं, जिनकी खतरनाक प्रदर्शनी शानदार है। “Bramayugam” में, शायद आप लोगों को कभी मालूम नहीं होगा कि इस तरह की स्थिति को अनुभव करने का मौका मिलेगा, लेकिन कमजोर दिल और दिमाग दोनों का कोई आधिकारिक प्रवेश नहीं होगा।

ब्रमायुगम फिल्म की रेटिंग

तो दोस्त, मेरी तरफ से Bramayugam को चार स्टार्स मिलेंगे। ये एक अद्वितीय कांसेप्ट है जो पुराने महल में प्रस्तुत है। वहाँ बहुत कुछ होता है, जो भय और सस्पेंस को बढ़ाता है। इसके अलावा, यह एक शानदार कहानी-सारणी है जिसमें कैमरे के सामने कुछ पहले नहीं देखे गए आंदोलनों का आभास होता है। तीसरा स्वाभाविकता और मजबूत अभिनय का ऑनस्क्रीन प्रदर्शन होगा। इसमें किसी हीरो या विलेन की बजाय सिर्फ़ सच्चे कलाकार होंगे। चौथा चींटीदेशन में, जो यह काल्पनिक दुनिया बनाई गई है।

यहाँ रोचक नियम और आवश्यकता के संबंध में जानकारी दी गई है और इसका संक्षेप मैं दे रहा हूँ। अंत में, यह कहानी मनुष्य बनाम लोभ के भीषण बातचीत का संकेत देती है। एकमात्र आपत्ति यह है कि थोड़ा अधिक मात्रा में सामग्री होनी चाहिए। यही उन्नतता का पहला चक्कर था, जिसे मैंने छूट दिया। बाकी के सीन्स में हाँ, अभी आपको जल्दी से दो काम करने होंगे। पहला, मोबाइल उठा कर टिकट बुक करें। दूसरा, जब आप घर वापस आएं, तुरंत लिफ़ट में भूत कालम देखें। उसे सनी लिफ में मिल जाएगी। ठीक है, बस अपना ध्यान रखें।

See Also: महंगाई भत्ता (DA) में वृद्धि: केंद्रीय कर्मचारियों के लिए खुशखबरी, वेतन में 20 से 70 हजार तक की वृद्धि संभव!

“Lal-imlI.com” से ताजा अपडेट पाने के लिए हमारे WhatsApp चैनल को सब्सक्राइब करें!