सीबीएसई बोर्ड: 10वीं और 12वीं के छात्र अब साल में दो बार देंगे परीक्षा, यहां है पूरी जानकारी

New Education Policy: नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति (NEP) के दिशानिर्देशों के तहत केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने 10वीं और 12वीं कक्षा के छात्रों के लिए बोर्ड परीक्षाओं में एक महत्वपूर्ण बदलाव की घोषणा की है। इस साल से, सीबीएसई के छात्रों के पास साल में दो बार बोर्ड परीक्षा में बैठने का विकल्प होगा।

क्या है मुख्य खबर:

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने अपनी परीक्षा पद्धति में एक बड़ा बदलाव किया है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 (एनईपी) के दिशा-निर्देशों के अनुसार, सीबीएसई 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं अब साल में दो बार आयोजित की जाएंगी। इस बदलाव का उद्देश्य छात्रों के सीखने के अनुभव को बेहतर बनाना और उन पर लगातार बढ़ते परीक्षा के दबाव को कम करना है।

बदलाव का उद्देश्य

शिक्षा मंत्रालय द्वारा किए गए इस बदलाव का उद्देश्य निम्नलिखित है:

  • छात्रों पर परीक्षा का दबाव कम करना।
  • छात्रों को अपने प्रदर्शन में सुधार के लिए कई मौके देना।
  • शिक्षा प्रणाली को अधिक लचीला बनाना।

परीक्षा के आयोजन का स्वरूप

  • वर्ष में आयोजित होने वाली पहली बोर्ड परीक्षा को आमतौर पर ‘टर्म 1’ परीक्षा कहा जाएगा।
  • दूसरी परीक्षा, जो वर्ष के अंत के करीब होगी, उसे ‘टर्म 2’ परीक्षा के रूप में जाना जाएगा।
  • छात्र चाहें तो दोनों परीक्षाओं में बैठ सकते हैं या केवल एक में शामिल हो सकते हैं।
  • अंतिम अंक दोनों परीक्षाओं में से सर्वश्रेष्ठ अंक, या एकल-परीक्षा के अंक पर आधारित होंगे।

केंद्र सरकार का बयान:

शिक्षा मंत्रालय के बयान के अनुसार, बोर्ड परीक्षाओं को साल में दो बार आयोजित करने का निर्णय छात्रों के समग्र विकास को ध्यान में रखते हुए लिया गया है। नई प्रणाली का उद्देश्य छात्रों की आलोचनात्मक सोच (क्रिटिकल थिंकिंग), समस्या समाधान कौशल, और बेहतर ज्ञान को बढ़ावा देना है।

विशेषज्ञ की राय:

शिक्षाविदों ने छात्रों के हित में केंद्र सरकार के इस कदम को सराहा है। उनका मानना है कि साल में दो बार परीक्षा देने से छात्रों का आत्मविश्वास बढ़ेगा, तनाव का स्तर कम होगा और इससे वो अपने सपनों को प्राप्त करने के लिए बेहतर प्रयास कर सकेंगे।

अस्वीकरण (डिस्क्लेमर): यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि सीबीएसई इस संबंध में आधिकारिक तौर पर नीति को अभी लागू करने की प्रक्रिया में है। इसलिए समय-सीमा, प्रारूप और अंतिम नियमों में कुछ बदलाव हो सकते हैं। इसलिए पाठक सीबीएसई की वेबसाइट पर जाकर अपडेट और सही जानकारी हासिल कर सकते हैं।