Bharat Rice: 29 रुपये किलो वाला ‘भारत चावल’ कहां से खरीदें?

Bharat Rice Kaha se Kharide (भारत चावल कहा से खरीदे)? सरकार ने बढ़ती चावल की कीमतों के मद्देनजर आम जनता के जीवन में सहायता लाने का हाथ बढ़ाया है। अगले आदेश के अनुसार, अब 29 रुपये प्रति किलो का चावल बाजार में उपलब्ध होगा; इसका नाम ‘भारत चावल’ रखा गया है। यह फैसला महंगाई में डूबती जनता, खासकर गरीब और मध्यम वर्ग के लिए, स्वागत योग्य है। तबियत से उठ रहा सवाल है कि यह चावल उन्हें कहां और कैसे प्राप्त होंगे।

भारत चावल कैसे मिलेगा?

अधिकारियों द्वारा प्राप्त सूचना के अनुसार, इस चावल की प्राप्ति 29 रुपये प्रति किलो की दर पर भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई), नेशनल एग्रीकल्चरल कोऑपरेटिव मार्केटिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (नाफेड), नेशनल कोऑपरेटिव कंज्यूमर फेडरेशन ऑफ इंडिया (एनसीसीएफ) और केंद्रीय भंडारों में उपलब्ध रहेगा। पहले चरण में पांच लाख टन चावल की सप्लाई की गई है।”

भारत राइस की प्राइस

यदि हम भारतीय चावल की मूल्य की चर्चा करें, तो रिपोर्ट के अनुसार केंद्रीय सरकार इसे 29 रुपये प्रति किलो के दर पर उपलब्ध कराएगी। इसका मतलब है कि आप इसे 29 रुपये में प्रति किलो खरीद सकेंगे। हम आपको यह भी सूचित करना चाहेंगे कि यह भारतीय चावल दो पैकेट विकल्पों में उपलब्ध होगा, जिनमें 5 किलो और 10 किलो के पैकेट्स शामिल हैं। यह अनुमान लगाया जा रहा है कि इसे सस्ते भारतीय आटे और दाल के यथासम्भव स्वीकारण मिलेगा। अब यह देखने की बारी है कि इसकी लोकप्रियता कितनी बढ़ती है।

Bharat Rice – Overview

Name of the ArticleBharat Rice
Type of ArticleLatest Update
Name of Riceभारत राइस
Price of Bharat Rice₹29 Per KG
Bharat Rice Kaha se Kharide (भारत चावल कहा से खरीदे)?Kindly read the entire article.

ई-कॉमर्स प्लेटफर्म से खरीद सकेंगे ‘Bharat Rice’

पीटीआई की भाषा की सूचना के अनुसार, ई-कॉमर्स के विभिन्न प्लेटफॉर्म्स ने ‘भारत राइस’ बेचने का निर्णय लिया है। इससे यह स्पष्ट होता है कि आप इसे फ्लिपकार्ट और अमेजन के माध्यम से खरीद सकते हैं। वाणिज्यिक लेखन के समय, हमने जब फ्लिपकार्ट पर इसे खोजा, हमें वहां इसे नहीं मिला। इसी तरह अमेजन पर भी हमने इसे नहीं पाया। हालांकि, जियो मार्ट की खुदरा दुकान से सम्पर्क करके हमे पता चला कि ‘भारत राइस’ शीघ्र ही जियो मार्ट में उपलब्ध होने वाला है। यह जानकारी कर दी जाती है कि भारत राइस, अर्थात भारत चावल, पांच और दस किलोग्राम के पैकेट्स में मिलने वाला है।

पीटीआई की रिपोर्ट के अनुसार, पिछले साल में चावल के खुदरा मूल्य में लगभग 15 प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्ज की गई है। इस दौरान, केंद्रीय सरकार ने जनता के लिए एक महत्वपूर्ण कदम उठाया है।

महंगाई को नियंत्रित करने का काम?

सरकार द्वारा अनुदान दिए गए इस भारत चावल को पांच किलो और 10 किलो के पैकेट में बाजारों में प्रदर्शित किया जाएगा। यह ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म्स के द्वारा भी खरीदा जा सकता है, जिससे यह चावल आम जनता के लिए सुलभ प्राप्य हो सकेगा। वर्ष 2023-24 में उच्च उत्पादन होने के बावजूद रिटेल मूल्य अभी भी स्थिर नहीं हैं, इसलिए सरकार ने इन कदमों की आवश्यकता महसूस की। विशेषज्ञो ने माना है कि होर्डिंग भी इसका एक मुख्य कारण हो सकता है। शायद यही कारण है कि सरकार ने सभी थोक और खुदरा विक्रेताओं से अपनी स्टॉक की जानकारी देने का अनुरोध किया है।

पिछले समयों में भी, महंगाई के घाव को हराने के लिए, सरकार ने भारत आटा, भारत चना और ऐसी ही अन्य चीजें सस्ते दरों पर बेचने का निर्णय लिया है। भारत आटा की कीमत लगभग 27.50 रुपये प्रति किलो ही है, जबकि चने की दाल 60 रुपये प्रति किलो की कीमत पर बेची जाती है।

‘भारत आटा’ और ‘भारत दाल’ की तरह ‘भारत चावल’ को सकारात्मक प्रतिक्रिया की उम्मीद

रिपोर्ट के अनुसार, खुले बाजार विपणन योजना (OMMS) के अंतर्गत थोक खरीददारों को चावल की बिक्री से प्राप्त हुई उदासीन प्रतिक्रिया के बाद, केंद्र सरकार ने FCI द्वारा प्राप्त चावल की खुदरा बिक्री का निर्णय लिया है। उम्मीद की जा रही है कि इसे वही सकारात्मक प्रतिक्रिया मिलेगी, जो ‘भारत आटा’ और ‘भारत दाल’ को मिली है। 

सरकार लोकसभा चुनाव से पहले कर रही उपभोक्ता के हित का ध्यान

यह ध्यान देना जरूरी है कि ‘भारत आटा’ NAFED और NCCF के माध्यम से 27.50 रुपये प्रति किलोक्राम की दर से बेचा जा रहा है, तथा ‘भारत दाल’ की विपणन दर 60 रुपये प्रति किलोक्राम है। इस वर्ष, लोकसभा चुनाव होने वाले हैं और उससे पूर्व सरकार चावल की कम कीमत पर बिक्री करके महंगाई के स्तर को कम करने और उपभोक्ताओं को राहत देने के प्रयास में जुटी है।

Our HomePageClick Here
Follow Us on WhatsAppClick Here